डिवाइन और नेज़ी: 'Gully Boys' कैसे बने प्रेरणा स्त्रोत


आप आजकल नौजवानो को रैपिंग करते हुए, 'अपना टाइम आएगा' की टी-शर्ट पहने हुए देख रहे होंगे| सिर पर टोपी, गले में चेन, रैपर्स का रवैया मस्त एक लड़का घूम रहा है, कॉपी कर रहा है एक शक्श को जिसका किरदार रणवीर सिंग ने निभाया| बहुत से लोगो को नही पता होगा ये मूवी किस इंसान पर आधारित है, उनका संघर्ष क्या रहा, जिसका चेहरा वो टी-शर्ट पर पहन के घूम रहे वो कौन है, जिनको पता है उनके लिए डिवाइन और नेज़ी प्रेरणा स्त्रोत बन गये|

Image source: hindustantimes
कौन है डिवाइन और नेज़ी?
ये दोनों असल के गली बॉयज है जिनपर गली बॉयज फिल्म आधारित है| इन के ज़रिए देश को हिप-हौप आवाज़ सुनने का एक शानदार मौका मिला|
रैपर डिवाइन असली नाम विवियन फर्नांडिस है| ये मुंबई की चाळ में बड़े हुए और 2011 में एक रैपर की भाँति अपने करियर की शुरआत की| काफ़ी संघर्ष के बाद इनके काम को पहचान 'मेरी गली में' गाने से नेज़ी के साथ मिली| यहां तक ​​कि उन्होंने रेडियो शो के लिए हिंदी में फ्रीस्टाइल रैप करने वाले पहले भारतीय रैपर के रूप में इतिहास बनाया।


उनका गाना जंगली शेर' इतना लोकप्रिय हुआ की लोग उन्हें रैपर्स का शेर कहने लगे| 2017 में डिवाइन का सिंगल 'फरक' आया जो 'आइ-ट्यून्स इंडिया' में टॉप मे रहा| पर संगीत छेत्र में हिप- हौप की सही पहचान ना होने के कारण वो अपनी जगह बॉलीवुड में नहीं बना पाए|


डिवाइन की ही तरह नेज़ी, असली नाम नावेद शेख, ने रैप करना 2013 मे शुरू किया| उनके पास आधुनिक यंत्र नहीं थे पर फिर भी उन्होने अपना गाना 'i-pad’ पर रेकॉर्ड किया और यू-ट्यूब पर डाल दिया जिसपर 470,000 से भी ज्यदा व्यूज़ आए और  गाने ने खूब सुर्खिया बटोरी|
हिप-हौप इंडिया के गली बॉयज की आवाज़ है और वो इसे देश के हर कोने मे पहुचाना चाहते है| डिवाइन और नेज़ी जैसे रैपर्स चाहते है की हिप-हौप के छेत्र में वो इंडिया की पहचान बनाए और इस संगीत को भी लोगो का प्यार मिले| इसके लिए उन्होने फिल्म मेकर्स के साथ भी बहुत काम किया|

Post a Comment

0 Comments